Sakaratmak Soch Essay

सकारात्मक सोच की शक्ति – Power Of Positive Thinking

सकारात्मक सोच की शक्ति – Power Of Positive Thinking In Hindi

जीवन संघर्ष का नाम है, जहा संघर्ष नहीं, वहा जीवन नहीं। हमें हर क्षण अपने अस्तित्व की रक्षा के लिए और अपने विकास के लिए संघर्ष करना पड़ता है। इसी संघर्ष का नाम है जीवन।

संघर्ष चाहे श्वास के लिए हो या ग्रास के लिए, सफलता के लिए हो या फिर मान – प्रतिष्ठा के लिए, धन के लिए हो या फिर ऐश्वर्य के लिए, संघर्ष तो करना ही पड़ता है। बिना संघर्ष और परिश्रम के, कभी किसी को कुछ नहीं मिलता और यदि भाग्यवश कुछ मिल भी जाए तो वह अधिक समय तक टिक नहीं पाता। जीवन में प्रतिकूलताएं तो आती ही रहती हैं। इन्हें स्वीकार करके ही व्यक्ति अपने जीवन को सफल व उन्नत बनाता है।

यह सच है कि जीवन में हर व्यक्ति सफल होना चाहता है, आगे बढ़ना चाहता है, किंतु वह कहा तक कुछ प्राप्त कर पाता है, यह उसके संघर्ष, परिश्रम और प्रयासों पर निर्भर करता है। जीवन में दुःख, समस्याएं, और चुनौतियां तो आती ही रहेंगीं, इनसे अब तक कोई नहीं बच पाया है, किंतु जीवन में सफल वहीं हुए हैं, जो इनको स्वीकार करके इनका सामना करके और संघर्ष करते हुए इन पर विजय पाने का होसला रखते हैं।

विपरीत परिस्थितियां हर व्यक्ति की जिंदगी में कभी न कभी आती ही हैं। ऐसे में आत्मविश्वास सूखी रेत की तरह मुठ्ठियों से फिसलने लगता है। चारोँ तरफ अंधकार ही अंधकार नजर आता है, साहस घुटने टेकने लगता है। एक पल ऐसा लगता है कि सब कुछ नष्ट हो जाएगा। ऐसी स्थिति में केवल दो ही विकल्प शेष रह जाते हैं – करो या फिर मरो

इसमें जो विपत्तियों से लड़े बगैर हार मान लेता है, उसका मरण तो निश्चित है। लेकिन जो साहस जुटाकर संघर्ष करता है। वही प्रतिकूलताओं पर विजय प्राप्त कर सफल हो पाता है।

सकारात्मक सोच वाला व्यक्ति समस्याओं के बारे में नहीं। बल्कि उनके समाधानों की संभावनाओं को विकसित करने में विश्वास रखता है । वह अपनी सफलताओं, क्षमताओं, योग्यताओं और कौशल के बारे में सोचता है। जो उसे संघर्षों को स्वीकारने, सामना करने व समाधान करने के लिए आवश्यक आधार प्रदान करते हैं।

सकारात्मक सोच से आत्मविश्वास बढ़ता है और आत्मविश्वास से कुछ कर गुजरने का साहस पैदा होता है। इसी साहस से उत्पन्न बल से व्यक्ति कठिन से कठिन समस्या को सुलझा लेता है। सकारात्मक सोच रखने से व्यक्ति मुश्किल परिस्थितियों में अपना आपा नहीं खोते, बल्कि शांत दिमाग से मुसीबत को सुलझाने के रास्ते ढूंढ़ती है।

कई लोग अक्सर अपने भूतकाल की बीती बातों को याद करके परेशान होते है और अपने आसपास नकारात्मक माहौल बना लेते है। इस माहौल में न तो वह खुद काम कर पाते है न ही उनके संगत में रहने वाले दूसरे लोग। नकारात्मक विचारो से सिर्फ आपके काम पर ही नहीं बल्कि आपके शरीर और health पर भी बुरा असर पड़ता है।

नकारात्मक सोच और विचारो के वजह से रिश्तो में तनाव पैदा होता है। नकारात्मक विचारो से जैसा दुनिया देखते हे वैसे ही पाते है। और धीरे धीरे अकेलापन और depression जैसी समस्याएं पैदा होती है।

इसीलिए अपने नकारात्मक विचारो को दूर करके खुद का ध्यान अच्छी और सकारात्मक चीज़ो पे लाना चाहिए। सकारात्मक attitude से व्यक्ति अपने आसपास के लोगो को अच्छा काम करने के लिए प्रेरित करती है।

जिससे काम के साथ साथ लोगो के बिच रिश्तो में भी सुधार आता है। सकारात्मक विचारो से आपके शरीर में भी positive बदलाव आने शुरू हो जाते है। ऐसे विचारो के वजह से mood light रहता है और काम करने में बहुत ऊर्जा रहती है। सकारात्मक सोच का जादू सिर्फ उस व्यक्ति पर ही नहीं बल्कि उसके परिवार और उससे जुड़े हर व्यक्ति पर होता है।

अगर आपके जीवन में भी उतार-चडाव का दौर चल रहा है। आपको भी अपने अस्तित्व या सफलता के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। फिर भी घबराईए मत क्योंकि आप सर्वशक्तिमान हो बस आपको जरूरत है अपनी सोच को सकारात्मक बनाने की, फिर आपको संघर्षों, मुश्किलों, आपतियों में भी अवसर दिखेंगे और आपका जीवन आत्मविश्वास, अवसरों से भरा होगा और आप सफलता के शिखरों को सिर करके अपने जीवन की हर मनोकामना पूर्ण कर सकते है।

जैसा की ‘द सीक्रेट ‘ किताब में कहा गया है आपकी हर सोच आपका भविष्य decide करती है। सकारात्मक सोच एक ऐसी सोच है जो आपकी जिंदगी बदल सकती है।

सकारात्मक विचारो से आप सिर्फ career related चीज़े ही नहीं बल्कि personal life को भी सुधार सकते है। खुद अपने स्वास्थ्य में अच्छे बदलाव ला सकते है। Depression Hypertension जैसी बीमारियों से लड़ने के साथ साथ ऐसी बहुत सी चीज़े है जिसमे सकारात्मक विचारो ने medical science को भी चकित कर दिया है।

सकारात्मक सोच या विचार आपके जीवन को हर तरह से improve कर सकता है और उसके लिए आपको इन विचारो का अनुभव लेना होगा। कोई भी successful व्यक्ति देख लो वह आपको उनके सफलता का राज़ सकारात्मक विचार ही बताएगा। तो अगर आप अपनी ज़िन्दगी में बदलाव लाना चाहते है तो अपने विचारो को सकारात्मक बनाइये और देखिये आपकी ज़िन्दगी कैसे बदलने लगती है।

Read More:

यह बेहतरीन Power Of Positive Thinking In Hindi लेख Virat Chaudhary द्वारा उपलब्ध कराया गया है।

Virat Chaudhary
From Palanpur, Gujarat
Professional Blogger
Blog:Aasaan Hai – Hindi Motivational Blog

Note: अगर आपके पास और Power Of Positive Thinking जैसे लेख हो तो जरुर हमें भेजे हम इसे आपके नाम के साथ Share करेंगे। और अगर आपको Power Of Positive Thinking in Hindiअच्छी लगे तो जरुर आपके फेसबुक पर Share कीजिये।
Note: E-MAIL Subscription करे और पायें Power Of Positive Thinking in Hindi for students and more Positive Thinking article आपके ईमेल पर।

Gyani Pandit

GyaniPandit.com Best Hindi Website For Motivational And Educational Article... Here You Can Find Hindi Quotes, Suvichar, Biography, History, Inspiring Entrepreneurs Stories, Hindi Speech, Personality Development Article And More Useful Content In Hindi.

सकारात्मक सोच पर प्रेरणादायक कहानी

Sakaratmak Soch Ki Kahani

कैसोवैरी चिड़िया को बचपन से ही बाकी चिड़ियों के बच्चे चिढाते थे।

कोई कहता, ” जब तू उड़ नहीं सकती तो चिड़िया किस काम की।”, तो कोई उसे ऊपर पेड़ की डाल पर बैठ कर चिढाता कि,” अरे कभी हमारे पास भी आ जाया करो…जब देखो जानवरों की तरह नीचे चरती रहती हो…”

और ऐसा बोलकर सब के सब खूब हँसते!

कैसोवैरी चिड़िया शुरू-शुरू में इन बातों का बुरा नहीं मानती थी लेकिन किसी भी चीज की एक सीमा होती है।

बार-बार चिढाये जाने से उसका दिल टूट गया! वह उदास बैठ गयी और आसमान की तरफ देखते हुए बोली,

“हे ईश्वर, तुमने मुझे चिड़िया क्यों बनाया…और बनया तो मुझे उड़ने की काबिलियत क्यों नहीं दी… देखो सब मुझे कितना चिढ़ाते हैं… अब मैं यहाँ एक पल भी नहीं रह सकती, मैं इस जंगल को हमेशा-हमेशा के लिए छोड़ कर जा रही हूँ!”

और ऐसा कहते हुए कैसोवैरी चिड़िया आगे बढ़ गयी।

अभी वो कुछ ही दूर गयी थी कि पीछे से एक भारी-भरकम आवाज़ आई-

रुको कैसोवैरी! तुम कहाँ जा रही हो!

कैसोवैरी ने आश्चर्य से पीछे मुड़ कर देखा, वहां खड़ा जामुन का पेड़ उससे कुछ कह रहा था।

“कृपया तुम यहाँ से मत जाओ! हमें तुम्हारी ज़रुरत है। पूरे जंगल में हम सबसे अधिक तुम्हारी वजह से ही फल-फूल पाते हैं…. वो तुम ही हो जो अपनी मजबूत चोंच से फलों को अन्दर तक खाती हो और हमारे बीजों को पूरे जंगल में बिखेरती हो…हो सकता है बाकी चिड़ियों के लिए तुम मायने ना रखती हो लेकिन हम पेड़ों के लिए तुमसे बढ़कर कोई दूसरी चिड़िया नहीं है…मत जाओ…तुम्हारी जगह कोई और नहीं ले सकता!”

पेड़ की बात सुन कर कैसोवैरी चिड़िया को जीवन में पहली बार एहसास हुआ कि वो इस धरती पर बेकार में मौजूद नहीं है, भगवान् ने उसे एक बेहद ज़रूरी काम के लिए भेजा है और सिर्फ बाकी चिड़ियों की तरह न उड़ पाना कहीं से उसे छोटा नहीं बनाता!

आज एक बार फिर कैसोवैरी चिड़िया बहुत खुश थी, वह ख़ुशी-ख़ुशी जंगल में वापस लौट गयी।

Friends, कैसोवैरी चिड़िया की तरह ही कई बार हम इंसान भी औरों को देखकर low feel करने लगते हैं। हम सोचते हैं कि उसके पास ये है…उसके पास वो है….सब कितनी lucky हैं…and all that!

हमें कभी भी बेकार के comparisons में नहीं पड़ना चाहिए! हर एक इंसान अपने आप में unique है…अलग है। हर किसी के अन्दर कोई न कोई बात है जो उसे ख़ास बनाती है..हाँ हो सकता है कि वो पूरी दुनिया के लिए बस एक इंसान हो लेकिन किसी एक के लिए वो पूरी दुनिया हो सकता है!

इसलिए life की importance को समझिये और अपने इस अमूल्य जीवन को positive thoughts का तोहफा दीजिये….यकीन जानिये सकारात्मक सोच का ये एक तोहफा आपकी पूरी लाइफ को शानदार बना देगा!

Hand-picked related posts:

सकारात्मक सोच की कहानी आपको कैसी लगी? कृपया कमेन्ट के माध्यम से बताएं!

This story is inspired from The Lonely Cassowary – A Story About Our Usefulness

यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:[email protected].पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे.

Filed Under: Hindi Stories, Motivational Hindi Stories, शिक्षाप्रद कहानियाँTagged With: Hindi Kahani, हिंदी कहानी

One thought on “Sakaratmak Soch Essay

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *